दुराचारियों को बीच चौराहे पर दे फांसी, शिवसेना ने छात्र, छात्राओं के साथ मंदसौर और सतना कांड पर जताया दुःख

बालाघाट. शिवसेना का मानना है कि सरकार को ईज्जत बचाओ अभियान भी चलाया जाना चाहिये, जिस तरह से मासुम बच्चियों की ईज्जत पर लगातार हमले हो रहे है, उससे प्रदेश में बच्चियां, युवती और महिलायें स्वयं को असुरक्षित महसुस कर रही है. सरकार लगातार अपराधियों को फांसी देने की बात कर रही है किन्तु ऐसा हो नहीं पाया है, सरकार द्वारा जिम्मेदारी से मुंह फेर लिये जाने के कारण मंदसौर और सतना जैसी घटनायें सामने आ रही है. सरकार दुराचारियों को बीच चौराहे पर फांसी दे तो निश्चित ही ऐसे मामले मंे अपराधियों में भय खत्म होगा और घटनाओं पर अंकुश लगेगा.

शिवसेना जिला प्रमुख डाली दमाहे के साथ महाविद्यालय के छात्र, छात्राओं ने श्रीराम मंदिर में मासुम बच्चियों और उसके परिवार को शक्ति देने ईश्वर से प्रार्थना की और मंदसौर एवं सतना की घटना पर अपना आक्रोश जाहिर किया. बालाघाट में मंदसौर और सतना की घटना के खिलाफ शिवसेना ने मध्यप्रदेश शासन के नाम जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपकर मंदसौर और सतना जैसी घटनाओं की पुनर्रावृत्ति रोकने और इसके लिए अभियान चलाये जाने की मांग की.

शिवसेना जिला प्रमुख डाली दमाहे ने कहा कि आज हर परिवार अपनी बेटियो को बचाता और पढ़ाता है जरूरत है कि घर से बाहर निकलने वाली बेटियों के ईज्जत की. सरकार ईज्जत बचाओ अभियान चलायें और ऐसी घटनाओं को रोकने में पहल करें. ताकि बेटियों की ईज्जत सुरक्षित रह सकें. उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार मासुम बच्चियों, युवतियों और महिलाओं के साथ दुराचार की घटना से प्रदेश शर्मसार हो रहा है. जिस पर सरकार को ठोस कदम उठाये जाने चाहिये.


Web Title : DURACARIYO AT THE INTERSECTION OF THE MANDSAUR, THE SHIV SENA, THE STUDENTS, AND SATNA WITH STUDENT GRIEVING