प्रभारी मंत्री, खनिज मंत्री और विधानसभा उपाध्यक्ष कर रही विपक्षी जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा-रेखा बिसेन, किसानों की समस्या से नहीं सरोकार

बालाघाट. जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती रेखा बिसेन और उपाध्यक्ष श्रीमती अनुपमा नेताम ने जिले के प्रभारी मंत्री कमलेश्वर पटेल, खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल और विधानसभा की उपाध्यक्ष सुश्री हिना कावरे पर विपक्ष और खासकर भाजपा के जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया हैं. उन्होंने कहा कि सरकार में प्रोटोकाल का भी ध्यान नहीं रखा जा रहा. तत्कालीन भाजपा सरकार के कार्यकाल में हुए कार्याे का लोकार्पण कर श्रेय लूटने का काम खनिज मंत्री और विधानसभा उपाध्यक्ष द्वारा किया जा रहा है, जिसमें क्षेत्रीय भाजपा जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित नहीं किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि खनिज मद की राशि को बिना अनुमोदन के अनुमोदन की प्रत्याशा में 19 कार्यो को स्वीकृत कर दिया गया. जबकि 140 कार्य जो अनुमोदित और जिनके टीएस हो चुके थे उन कामों को निरस्त कर दिया गया. इस तरह से नियम के विरूद्ध कार्य कर यह सरकार पक्षपातपूर्ण रवैया अपना रही हैं.  

जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती रेखा बिसेन और जिला पंचायत की उपाध्यक्ष श्रीमती अनुपमा बिसेन ने जिला पंचायत सदस्य विजय खेरे, झामसिंह नागेश्वर की उपस्थिति में संयुक्त पत्रकारवार्ता लेकर आरोप लगाया कि इस सरकार को किसानों की समस्या से कोई सरोकार नहीं रह गया हैं. समर्थन मूल्य पर खरीदी गई धान पानी में भीग कर खराब हो गई है और धान में अंकुर आ गये हैं. बल्कि किसानों को अब पुनः धान सुखाने के लिये कहा जा रहा हैं. नियत तिथि निकट आ गई और 35 प्रतिशत भी धान की खरीदी नहीं हुई हैं. किसानों को भुगतान नहीं किया जा रहा है. दोनों महिला नेत्री ने कहा कि जानबुझकर जियोस की बैठक बैहर में बुलाई गई. जिस बैठक में उनके द्वारा किसानों की समस्या को सामने रखा गया. ओलावृष्टि से फसलों के प्रभावित होने की जानकारी दी गई तो कलेक्टर ने अनभिज्ञता जतायी. खेतो में किसानों की फसल ओला और पाला से प्रभावित हो गई लेकिन पटवारी और तहसीलदार कोई भी नहीं पहुंचे, और ना ही उन किसानों की फसलों का सर्वे किया गया हैं. ऐसे में समझा जा सकता हैं कि प्रशासन व शासन का किसानों के प्रति रवैया कैसा हैं? किसानों के कर्जमाफी का दावा किया गया लेकिन किसानों से ब्याज सहित राशि की वसूली की जा रही हैं. जिन्हें ऋणमाफी का पत्रक मिल गया उनसे भी ब्याज सहित राशि वसूल की जा रही हैं. सरकार में बालाघाट के दो जिम्मेदार जनप्रतिनिधि काबिज हैं लेकिन किसानों के खेत और खलियान को उन्हें अब तक नहीं देखा और ना ही किसानों की सुध ले रहे हैं, जब उन्होंने किसानों के भुगतान का मामला जियोस में उठाया तो सरकार में बैठे खनिज मंत्री और विधानसभा उपाध्यक्ष ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र के किसानों के लिये भुगतान के लिए राशि को डायवर्ट कर लिया.  

श्रीमती बिसेन एवं श्रीमती नेताम ने कहा कि विविध कार्यो का लोकापर्ण एवं भूमिपूजन किया जा रहा, लेकिन वहां पर प्रोटोकॉल का कोई ध्यान नहीं रखा जा रहा हैं. भाजपा के जनप्रतिनिधियों को नहीं बुलाया जा रहा हैं. बैहर में आयोजित बैगा ऑलम्पिक में भी जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा की गई. कांग्रेस पार्टी के विधायक एवं जिला पंचायत सदस्यों को भी बुलाया नहीं गया. आमंत्रण कार्ड में जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष का नाम तक नहीं रखा गया था. इस आयोजन में बालाघाट के बैगाओं की उपेक्षा कर बाहर से बैगाओं को बुलाकर कार्यक्रम किया गया, जो जिले के बैगाओं के साथ धोखा है. यहीं नहीं बल्कि उनके खाने की व्यवस्था भी उचित नहीं की गई, जिससे बैगाओं को भुखा रहना पड़ा. भाजपा नेत्रियों ने कहा कि पूर्व की सरकार में खनिज मद के कार्यो को अनुमोदन कर तत्कालीन प्रभारी मंत्री ने स्वीकृत कर दिया था. जिसके एएस जारी हो गये थे. पर इस सरकार के काबिज होते ही उस कार्यो को निरस्त कर दिया गया और उसमें कोई नियमों का पालन नहीं किया गया हैं. इन कार्यो में ऐसे कार्यो को ले लिया गया जिनका जल, शिक्षा और स्वास्थ्य से कतई संबंध नही हैं.  

उन्होने कहा कि जिला पंचायत के सदस्यों सहित अन्य के लिये राज्य वित्त आयोग की राशि उनके क्षेत्रीय विकास के लिये प्रदाय होती थी, लेकिन पिछले एक साल से यह राशि प्रदाय नहीं हो रही हैं. बीच में यह राशि आयी तो उसे आगामी आदेश तक रोक लगाने के नाम पर खर्च नहीं करने दिया गया. जबकि यह पंचायत के जनप्रतिनिधियों के अधिकार क्षेत्र की राशि हैं और वह अपने-अपने क्षेत्रों में आवश्यकता के अनुरूप उन विकास कार्यो में राशि को खर्च कर रहे थे. श्रीमती बिसेन ने कहा कि जिला प्रशासन भी पूरी तरह से दबाव में कार्य कर रहा हैं. प्रदेश की सरकार और उनके नुमाईंदे पक्षपात एवं भेदभाव कर रहे हैं. सरकार को आमजन एव किसानों की कोई चिंता नहीं हैं.  

Web Title : MINISTER IN CHARGE, MINISTER OF MINERALS AND ASSEMBLY VICE PRESIDENT IGNORES OPPOSITION PUBLIC REPRESENTATIVES, NOT CONCERNED WITH FARMERS PROBLEM