राहत की खबर: कोरोना संदिग्ध मरीज की रिपोर्ट निगेटिव

बालाघाट. यह जिले के लिए राहत की खबर है कि कोरोना संदिग्ध बताये जा रहे सुधलाल डहाटे की रिपोर्ट नेगेटिव है. जिसकी जांच रिपोर्ट आज 5 अप्रैल की देरशाम स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त हो गई. जो जिले के लिए राहत की खबर है. गौरतलब हो कि गत 4 अप्रैल को बुढ़ी निवासी सुधलाल डहाटे के कोरोना संदिग्ध पाये जाने के बाद उसे जिला चिकित्सालय के आईशोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है. जिसमें कोरोना वायरस की जांच के लिए उसके सैंपल को जबलपुर भेजा गया था. वहीं अन्य एक महिला की जांच रिपोर्ट भी निगेटिव आई है. जिसके बाद जिले में कोई भी पॉजिटिव मरीज है.  

हालांकि ऐतिहात के तौर पर उसके निवास क्षेत्र बुढ़ी सहित डॉ. श्रीवास्तव क्लिनिक और उस क्षेत्र को सील कर दिये जाने के कारण रविवार को इस क्षेत्र में आवाजाही पूर्णतः प्रतिबंधित रही. रविवार को रानी अवंतीबाई चौक से बुढ़ी जाने वाले मार्ग को पूरी तरह से बंद रखा गया है और यहां पुलिस जवान तैनात रहे. यहां निवासरत लोग भी घरो में रहे. पूरा क्षेत्र रविवार को सुनसान और सन्नाटे की तरह नजर आया.  

हैदराबाद से पहुंचे मजदूरों को पहुंचाया गया घर

बालाघाट जिले से बड़ी संख्या में लोग रोजी-रोटी कमाने जिले से पलायन करते है, जो लॉक डाउन के बाद काम बंद होने से वापस लौट रहे है. रविवार को जिले के सालेटेकरी से हैदराबाद कमाने गये कुछ मजदूर आज सुबह महाराष्ट्र के तुमसर होते हुए मोवाड़ बॉर्डर से बालाघाट पहुंचे. यहां उनके स्वास्थ्य जांच के बाद उन्हें नपा द्वारा भोजन कराया गया. जिसके बाद मजदूरों को बस के माध्यम से उनके घरों तक पहुंचाया गया.  

खैरी के आवासटोली से भोजन करने बालाघाट पहुंचे गरीब परिवारों का समूह

जिला मुख्यालय से खैरी के आवासटोली के एक दर्जन से ज्यादा गरीब परिवारों के लोग भोजन की तलाश में बालाघाट पहुंचे. यहां नपा द्वारा उन्हें धर्मशाला के बाहर खाली परिसर में भोजन कराया गया. ग्राम पंचायत खैरी अंतर्गत आवासटोला निवासी राजेशसिंह मरावी ने बताया कि आवासटोला में लगभग 15 से 20 परिवार के लगभग 50 लोग निवास करते है. जो सभी खेती, मजदूरी का काम करते है, काम बंद होने से वह खाली बैठे है, जिसके चलते पेट भरने की समस्या खड़ी हो गई है. उन्होंने बताया कि पंचायत द्वारा जो खाद्यान्न दिया गया था वह खत्म हो गया है. जिसके बाद फिर खाद्यान्न मांगा गया तो खाद्यान्न नहीं होने की बात कही गई. उन्हें पता चला था कि बालाघाट में नपा द्वारा भोजन कराया जा रहा है, इसलिए कुछ परिवार बालाघाट भोजन करने आये है. यहां से कुछ भोजन लेकर वह टोली में अन्य लोगों के लिए लेकर जायेंगे. जहां एक ओर खाद्यान्न की कोई कमी नहीं होने की बात कही जा रही है, वहीं खैरी के आवासटोली के गरीब परिवारों को लंबा सफर तय कर बालाघाट भोजन की तलाश में आना, गरीब परिवारों की मजबूरी को बयां करता है.  


Web Title : RELIEF NEWS: CORONA SUSPECTED PATIENT REPORT NEGATIVE