नौकरी की लालच में पोते ने करवाया दादा की हत्या

धनबाद : पिछले दस दिन पूर्व ईसीएल मुगमा एरिया के कुमारधुबी कोलियरी में कार्य के दौरान ईसीएल कर्मी नरेश नोनीया की हत्या मामले का उदभेदन निरसा एसडीपीओ के नेतृत्व में चिरकुंडा पुलिस ने आखिरकार कर ही लिया. पुलीस ने हत्या में शामिल मृतक के पोता अनिल चौहान, इम्तियाज अंसारी व शेख नवाब को गिरफ्त में ले लिया है जहां तीनों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है.

यह जानकारी एक प्रेस कांफ्रेंस में धनबाद ग्रामीण एसपी अमित रेणु ने मीडिया को दी. 

उन्होंने बताया की मृतक नरेश नोनिया का पोता अनिल चौहान ने कोलियरी में नौकरी लेने के लालच में अपने दादा की ही हत्या करवा दी. दरअसल इस हत्या में मृतक के पोता के अलावा दो और लोग शामिल है जिसने हत्या जैसी जघन्य घटना को अंजाम दिया. मृतक नरेश नोनिया मुग्मा का रहने वाला था उसके पोते ने मुग्मा के ही दो लड़के को सुपारी किलर के रूप में सेट किया और पैसे देकर अपने दादा की हत्या करवा दी.

हत्या की रात मृतक का पोता उसे उनके कार्यस्थल पर छोड़ने मोटरसाइकिल से कुमारधुबी कोलियरी पहुंचा था अपने दादा को ड्यूटी में छोड़ने के बाद वह वापस चला गया और वहां से मुग्मा से दो सुपारी किलर को मोटरसाइकिल पर बिठाकर कुमारधुबी कोलियरी ले आया जहां पर ड्यूटी में तैनात नरेश नोनिया की दोनों ने मिलकर हत्या कर दी पुलिस ने टेक्निकल सेल की मदद से मोबाइल लोकेशन के आधार पर जब जांच पड़ताल शुरू किया तो उसके पोता ही उसमें शामिल मिला.

इस घटना में पोता के अलावा दो और लोगों ने अपनी संलिप्तता कबूल कर ली है. पुलिस सूत्रों के अनुसार इस खबर की पुष्टि हुई है.

अभियान में एसडीपीओ विजय कुमार कुशवाहा, चिरकुंडा थाना प्रभारी प्रभात कुमार सिंह, सालो हेंब्रम, शिवनारायण राम, धमेंद्र कुमार, आदित्य कुमार नायक साथ पुलिस बल मौजूद थे

Web Title : GRANDSON KILLED BY GRANDFATHER IN JOB LURE

Post Tags: