इंसानियत की बेमिसाल जोड़ी अजय और सोहराब

धनबाद : इन्सानियत से बड़ा कोई मज़हब नही. पुराना बाजार चेम्बर ऑफ़ कॉमर्स के ये दो पदाधिकारी अजय नारायण लाल और सोहराब खान की जोड़ी ने हमेशा इस कथन को साबित किया है.

शक्ति मन्दिर जोड़ा फाटक के समीप एक 50 वर्षीय बुजुर्ग जो भीख माँग कर अपना जीवन बसर कर रहा था. बीती रात उसकी मौत होने के बाद शव लावारिश अवस्था में पड़े रहने के कारण आवारा कुत्ते अपना शिकार बना रहे थे.

उस बुजुर्ग के शरीर को कुत्तों ने नोच खाया था. शरीर पर चींटियां रेंग रही थी. शव की दशा विचलित करने वाली थी.

उक्त स्थल भीड़-भाड़ वाला होने के कारण आतेजाते लोग दूर से देख कर वीडियो तो बना रहे थे, पर इन्सानियत धर्म निभाने कोई शव के पास नही आ रहा था.

बुधवार की सुबह 7 बजे बैंक मोड़ थाना प्रभारी शमीम अहमद खान को इसकी सूचना मिली. थाना प्रभारी ने पुराना बाज़ार चैम्बर अध्यक्ष सोहराब खान और पुराना बाज़ार चैम्बर माहसचिव अजय नारायण से सम्पर्क किया.

उन्हें मामले की जानकारी दी गई. दोनों बिना वक़्त गंवाए वहाँ पहुँचे और कपड़ा मँगवाकर मृत शरीर को कपड़ा से ढक दिया. बैंक मोड़ थाना के अफ़सर फिलिप मिंज़ ने पंचनामा तैयार कर कानूनी कार्यवाई पूरी की.

अजय लाल और सोहराब खान ने बुजर्ग की धार्मिक शिनाख्त के बाद अंतिम संस्कार की सामग्री का जुटान कर शव को मटकुरिया मुक्तिधाम पहुँचाया.

यहाँ धार्मिक रीति रिवाज के साथ शव का दाह संस्कार किया. इस नेकी के काम मे शक्ति मन्दिर के उपाध्यक्ष सोमनाथ पूर्ति,शुभम मालाकार और लाल बाबू यादव का महत्वपूर्ण सहयोग रहा.

ये कोई पहला मौका नही है जब अजय लाल और सोहराब खान ने इन्सानियत का बेमिशाल कायम किया हो. अनगिनत ऐसे काम इस जोड़ी के नाम दर्ज़ है.

भाग-दौड़ की ज़िन्दगी में एक तरफ लोगों के पास अपनो के लिए वक़्त नही पर सोहराब खान और अजय लाल इन दोनों की जोड़ी ने इन्सानियत धर्म को ज़िन्दा रखा है. सिटी लाइव परिवार इन्हें सलाम करता है.

Web Title : UNMATCHED DUO AJAY AND SOHRAB HUMANITY

Post Tags: