आवासीय कन्या परिसर की 23 छात्राओं को फूड प्वाइजनिंग की शिकार, दो छात्राओ को जिला अस्पताल में कराया गया भर्ती, छात्राओं ने की अधकच्चा भोजन और दूषित पानी की शिकायत

बालाघाट. आज 11 जनवरी को सुबह नाश्ता करने के बाद बैहर अंतर्गत संचालित एकलव्य आवासीय कन्या परिसर की 23 छात्राओं की फूड प्वाइजनिंग के बाद हालत बिगड़ने पर बैहर अस्पताल में भर्ती कराया गया. जिसमें दो छात्राओं 10 वीं की छात्रा 16 वर्षीय उशारदा पिता नरेंद्र टेकाम और 15 वर्षीय दुर्गेश्वरी पिता वीरसिंग उइके को उपचारार्थ जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है. हालांकि जानकारी 50 छात्राओ के स्वास्थ्य खराब होने की आ रही है, लेकिन प्रशासनिक अधिकारी तहसीलदार सारिका परस्ते ने बताया कि 21 छात्रायें है, जिसमें 19 छात्राओ का बैहर अस्पताल मंे उपचार चल रहा है, जबकि दो छात्राओ की स्थिति नाजुक होने पर उन्हें बेहतर उपचार के लिए जिला चिकित्सालय भिजवाया गया है. घटना के बाद क्षेत्रीय विधायक, एसडीएम तन्मय वशिष्ट और तहसीलदार सारिका परस्ते ने अस्पताल पहुंचकर घायल छात्राओं से मुलाकात की और स्वास्थ्य प्रबंधन से बच्चियों के स्वास्थ्य को लेकर जानकारी ली. मिली जानकारी अनुसार अभी छात्राओं की हालत में सुधार बताया जा रहा है.

वहीं कन्या परिसर में अध्ययनरत छात्राओं ने अधकच्चा भोजन देने और दूषित पानी पिलाने का आरोप लगाया है. बताया जाता है कि तहसील बैहर अंतर्गत कन्या परिसर बैहर में 23 बच्चे फूड प्वाइजनिंग की शिकायत से बैहर शासकीय अस्पताल में भर्ती किये. जिनमें 2 बालिकाओ को रिफर पर जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है. बताया जाता है कि छात्राओं को सुबह नाश्ते में चने की बासी चटपटी दी गई थी. जिससे बहुत अधिक गंध आ रही थी. जिससे संभावना व्यक्त की जा रही कि दूषित भोजन और पानी के कारण अध्ययनरत छात्राओं की हालत बिगड़ी है.

वहीं एसडीएम के निर्देश पर तहसीलदार सारिका परस्ते ने अस्पताल पहुंचकर बच्चों के कथन दर्ज किये है, वहीं स्कूल में पानी टंकी की जांच में पाया कि टंकी में काई जमा थी. हालांकि छात्रावास अधीक्षक ललिता धुर्वे ने छात्राओं के अधकच्चा भोजन, दूषित पानी और आज सुबह नाश्ते में दी गई दूषित चने की चटपटी के आरोपों से इंकार किया है. उन्होंने कहा कि छात्राओं को अच्छा खाना दिया जाता है, चना रात में भिगोकर रखा गया था. जिसे सुबह धोकर उसकी चटपटी बनाकर दी गई. कन्या परिसर में आरोह लगा है, जिसका ही पानी छात्राओ को पिलाया जाता है. उन्होंने बताया कि सुबह दो बच्चियां एकाएक चक्कर आने से गिर गई. जिसके बाद अन्य बच्चियां भी भय में गिरते चली गई.

बहरहाल क्षेत्रीय विधायक और प्रशासनिक अधिकारियों ने कन्या परिसर की छात्राओं के एकाएक फूड प्वाइजनिंग की शिकायत को गंभीरता से लिया है और छात्राओं के बयान एवं जांच में पायी गई पानी की टंकी में गंदगी का पंचनामा तैयार किया गया है. जिसके बाद छात्रावास अधीक्षक पर कार्यवाही की जाने की बात कही जा रही है. फिलहाल सभी बच्चियों की हालत में सुधार बताया जा रहा है, इस मामले में स्वास्थ्य विभाग बच्चियों के स्वास्थ्य पर नजर बनाये है.


Web Title : 23 GIRL STUDENTS OF RESIDENTIAL KANYA COMPLEX SUFFER FROM FOOD POISONING, TWO STUDENTS ADMITTED TO DISTRICT HOSPITAL, GIRL STUDENTS COMPLAIN OF UNCOOKED FOOD AND CONTAMINATED WATER