धरोहर जंक्शन पर बोगी के साथ खड़ा होगा इंजन, 21 नवंबर को आएगा इंजन

बालाघाट. नगर के अंबेडकर चौक स्थित इतिहास एवं पुरातत्व शोध संस्थान संग्राहलय परिसर में स्थित धरोहर जंक्शन पर 06 वर्षो से खड़ी बोगी से जुड़ने वाले इंजन का इंतजार खत्म होने वाला है. जहां बोगी के साथ अब इंजन भी नजर आएगा. नेरोगेज की यादों को संजोने 20 नवंबर को इतिहास एवं पुरातत्व का दल सुबह 8 बजे नागपुर मोतीबाग के लिए निकलेगा, जहां से इंजन आगामी नवंबर में बालाघाट लाया जाएगा.

ज्ञात हो कि इस इंजन को धरोहर जंक्शन पर लाने का निर्णय 30 सितंबर को कलेक्टर एवं जिला पुरातत्व, पर्यटन और संस्कृति परिषद अध्यक्ष डॉ. गिरीश कुमार मिश्रा द्वारा पुरातत्व संग्राहालय में आयोजित की गई जिला पुरातत्व पर्यटन एवं संस्कृति परिसर की बैठक में लिया गया था. पुरातत्व संग्राहलय के आचार्य ड़ॉ. वीरेंद्र सिंह गहरवार ने बताया कि यह इंजन नागपुर के मोतीबाग से एक माह के भीतर लाया जायेगा. बैठक में कलेक्टर ड़ॉ. मिश्रा ने एक माह में प्लेटफॉर्म तैयार करने के निर्देश दिए थे. प्लेटफॉर्म का कार्य 17 नवंबर को पूर्ण हो गया. यह इंजन 24 लाख रुपये की कीमत पर मिलने वाला था लेकिन जनसहयोग से अब यह इंजन निःशुल्क प्राप्त हो रहा है. दरअसल धरोहर जंक्शन पर 26 जनवरी 2017 से बोगी अकेली खड़ी थी. अब इस डीजल इंजन के आ जाने से बालाघाट के हेरिटेज को सफलता मिली है. डीजल इंजन लेने के लिए ड़ॉ. गहरवार के साथ समिति के सदस्य एससी गुप्ता, श्याम सिंह ठाकुर और सचिन सिंह नागपुर जा रहे हैं. इंजन के साथ नैरोगेज रेल 50 आर 11 मीटर की तथा आयरन स्लीपर 16 नम्बर, लूम जौ 64 नम्बर, चाबी 64 नम्बर और कपलिंग 1 नम्बर की भी साथ आएगी.  


Web Title : THE ENGINE WILL BE PARKED WITH THE BOGIES AT DHAROHAR JUNCTION, THE ENGINE WILL COME ON NOVEMBER 21