वट सावित्री पर वटवृक्ष को रक्षासूत्र बांधकर पत्नियों ने की पति के दीर्घायु की कामना

बालाघाट. जयेष्ठ माह की अमावस्या तिथि 10 जून गुरूवार को ने वट सावित्री व्रत रखकर सोलह श्रृंगार कर सुहागिन महिलाओं ने पति की दीर्घायु और अखंड सौभाग्य की कामना कर वट वृक्ष का रक्षासूत्र बांधकर विधि-विधान से पूजन अर्चन किया. मान्यता अनुसार सावित्री ने अपने पति सत्यवान के जीवन के लिट वटसावित्री का व्रत रखकर वट का पूजन किया गया था. इसी मान्यता के चलते सुहागिन महिलाओं ने वटवृक्ष की पूजा की. इस दौरान महिलाओं ने सावित्री और सत्यवान की कथा का वाचन किया. बालाघाट मुख्यालय सहित पूरे जिले में 10 जून को वट सावित्री व्रत का संकल्प लेकर वट वृक्ष का पूजन किया और वटवृक्ष को मौलीधागा के रूप में रक्षासूत्र बांधा. पूजन के दौरान पूजन सामग्री के अलावा श्रृंगार की सामग्री अर्पित कर पति के दीर्घायु होने की मनोकामना पूर्ति का आशीर्वाद मांगा.  

वट सावित्री व्रत का संकल्प लेकर वटवृक्ष का पूजन करने पहुंची महिला श्रीमती रेखा रावते ने बताया कि वट सावित्री व्रत में बरगद वृक्ष के पूजन अर्चन के लिए रक्षासूत्र, कुमकुम, बांस का पंखा, धूप, दीपक, घी-बाती, सुहागिन महिलाओं के सोलह श्रृंगार की सामग्री, पूजा के लिए सिंदूर, पांच प्रकार के फल, पुष्पमाला, पूरिया, गुलगुले, भीगे चने, जल कलश तथा बरगद का फल सहित अन्य सामग्री वटवृक्ष पूजन के रूप में अर्पित की गई. मौलीधागा, रक्षा सूत्र के रूप में वटवृक्ष को लपेटा गया. वट सावित्री के व्रत का संकल्प लेकर वटवृक्ष पूजन करके पति के दीर्घायु की कामना की गई.  

बारिश के कारण महिलाओं ने की घर में पूजा

वट सावित्री व्रत का संकल्प लेकर पति के दीर्घायु और अखंड सौभाग्य की कामना को लेकर सुहागिन महिलाओं ने 10 जून को वटवृक्ष का पूजन किया. चंूकि सुबह से ही तेज बारिश होने के कारण कई व्रतधारी महिलायें घर से नहीं निकल सकी. जिसके चलते महिलाओं ने ही गमले में लगाये गये वटवृक्ष के पौधें का विधि-विधान से पूजन कर पूजन सामग्री और भोग अर्पित कर पति के दीर्घायु और अखंड सौभाग्य की कामना की.


Web Title : WIVES WISH HUSBAND A LONG LIFE BY TYING RAKSHA SUTRA TO BANYAN TREE ON VAT SAVITRI