धनबाद में पेट्रोल सब्सिडी से लोगों का मोहभंग

धनबाद:    धनबाद समेत आसपास के क्षेत्रों के लोगों का पेट्रोल सब्सिडी से मोहभंग हो रहा है. हर दिन योजना का लाभ लेनेवाले लोगों की संख्या घट रही है. राज्य सरकार की पेट्रोल सब्सिडी योजना का लाभ जितने लोगों ने अबतक लिया, उनमें 75 प्रतिशत लोगों ने अब आवेदन देना बंद कर दिया है. राज्य सरकार की पेट्रोल सब्सिडी योजना की जनवरी में शुरुआत हुई. जनवरी में 11 हजार 228 लोगों को योजना का लाभ मिला. कार्डधारियों के खाते में 250 रुपए राशि भेजी गई. फरवरी में ग्राफ घट गया. मात्र तीन हजार 470 लोगों को ही सब्सिडी की राशि भेजी गई, जबकि तीन हजार 480 लोगों ने आवेदन दिया. अक्तूबर में मात्र 2600 के खाते में पेट्रोल सब्सिडी की राशि भेजी गई. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के आंकड़े के अनुसार जनवरी के मुकाबले बीते छह माह में मात्र 25 प्रतिशत उपभोक्ता सब्सिडी का लाभ ले रहे हैं. जनवरी में 11,228, फरवरी में 3,470, मार्च में 2,092, अप्रैल में 3,557, मई में 2,308, जून में 3,450, जुलाई में 2,550, अगस्त में 3,250, सितंबर में 2,800, अक्तबूर में 2600 लोगों ने सब्सिडी का लाभ लिया.

पीडीएस दुकानदार को मिला था आदेश: शुरुआती दौर में कार्डधारियों को डर था कि कहीं सब्सिडी के बहाने राशन कार्ड बंद न हो जाए. यह सोचकर कार्डधारी फॉर्म नहीं भर रहे थे. यह देख विभागीय अधिकारियों ने हर पीडीएस दुकानदार को 20-20 फॉर्म भरकर जमा करने का निर्देश दिया था. साथ ही कहा कि किसी का राशन कार्ड बंद नहीं होगा. यह सरकार की महत्वकांक्षी योजना है. लोगों का भ्रम दूर कर शुरुआत में काफी लोगों का आवेदन कराया गया. दुकानदार भी कार्डधारियों का फॉर्म भरवाने को लेकर उत्साहित दिखे. इसके बाद जैसे-जैसे महीना गुजरता गया, पीडीएस दुकानदारों की भी योजना का लाभ दिलाने में रुचि घटती गई.

Web Title : PEOPLE DISILLUSIONED WITH PETROL SUBSIDY IN DHANBAD

Post Tags: