प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए कार्यशाला आयोजित, उपायुक्त ने कहा- स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने में मीडिया की है महत्वपूर्ण भूमिका

धनबाद : स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है. मीडिया भी लोकतंत्र का एक मजबूत स्तंभ है. इसलिए मीडिया यह सुनिश्चित करें कि कोई उसका दुरुपयोग ना कर सके. यह बातें जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त ने आज कोयला नगर स्थित सामुदायिक भवन में उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडलीय स्तरीय मीडिया कर्मियों के लिए आयोजित कार्यशाला में कही.

उन्होंने कहा कि चुनाव के दरमियान बहुत सारे उम्मीदवार अपने विज्ञापन को पेड न्यूज के रूप में प्रचारित एवं प्रसारित करवाते हैं. लेकिन मीडिया को इस पर विशेष ध्यान देना है. इसके लिए मीडिया सर्टिफिकेशन एंड मॉनिटरिंग कमिटी भी गठित की गई है जो हर विज्ञापन की जांच करती है. कमेटी में मीडिया के प्रतिनिधि भी शामिल है.

वैसे विज्ञापन जो सीधे तौर पर किसी पर निशाना साधते हो या सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने वाला हो, मीडिया को प्रकाशित नहीं करना चाहिए. भारत निर्वाचन आयोग का हर हाल में पेड न्यूज़ को रोकने का उद्देश्य है. इसलिए इस पर बहुत कड़ाई से निगरानी रखी जा रही है.

उपायुक्त ने कहा कि कार्यशाला में उपस्थित सभी प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधियों को आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के बारे में भी विस्तार से समझाया जाएगा. कार्यशाला में उप विकास आयुक्त ने कहा कि निर्वाचन में मीडिया की जिम्मेदारी बढ़ जाती है. लोकतंत्र के महापर्व में मीडिया की भूमिका और महत्वपूर्ण हो जाती है.

कार्यशाला में निर्वाचन विभाग के दिलीप कुमार सिंह, सलाहकार कैबिनेट (चुनाव) विभाग ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग का उद्देश्य है कि इस बार मतदान में 10 से 20% तक का इजाफा हो. निर्वाचन आयोग ने जनता को पर्यवेक्षक बना दिया है. विभिन्न एप जारी कर जनता के हाथ में शक्ति प्रदान की है.  

कार्यशाला में दी जाने वाली जानकारी मीडिया में प्रकाशित और प्रचारित होने से यह समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचेगी और लोग जागरूक होंगे. उन्होंने कहा कि शहर में मतदान प्रतिशत को बढ़ाने के लिए मीडिया को सहयोग प्रदान करना चाहिए. शहरी मतदाता मतदान में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करेंगे तो निश्चित तौर पर मत प्रतिशत बढ़ेगा.

इसके लिए स्वीप मिशन के अंतर्गत स्कूल, कॉलेज के छात्र छात्राओं को इलेक्ट्रोल लिटरेसी क्लब के द्वारा जागरूक किया जा रहा है. चुनाव पाठशाला सहित अन्य जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. सरकारी एवं निजी क्षेत्र, बैंक इत्यादि में भी जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि मतदाताओं की सुगमता के लिए इस बार निर्वाचन आयोग ने सी विजील, वोटर हेल्पलाइन, पीडब्ल्यूडी, 1950 जैसे एप लॉन्च किए हैं. साथ ही मतदान केंद्रों पर रैंप, बिजली, शुद्ध पेयजल, शौचालय इत्यादि की व्यवस्था तथा दिव्यांग मतदाताओं के लिए स्वयंसेवक, ब्रेल लिपि सहित अनेक प्रकार की सुविधाएं प्रदान की जा रही है.

कार्यशाला में सय्यद नसीर जमील, प्रभारी, कंप्यूटर सेल ने बताया कि इस बार लोकसभा चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी को विगत 5 वर्षों का इनकम टैक्स रिटर्न, आपराधिक मुकदमों का पूर्ण विवरण, संपत्ति, बैंक बैलेंस, शैक्षणिक योग्यता सहित अन्य जानकारियां शपथपत्र में देनी होगी.  

प्रत्याशी को तीन स्थानीय दैनिक अखबारों में भी इसे प्रकाशित करवाना होगा. जिससे सूदूरवर्ती जनता भी अपने उम्मीदवार के बारे में हर जानकारी प्राप्त कर सकेंगी. उन्होंने बताया कि सी-विजील (विजिलेंट सिटीजन) एप को 10 मार्च 2019 को लांच किया गया. अब तक इस ऐप के माध्यम से उत्तरी छोटानागपुर में 93 शिकायतें प्राप्त हुई है.  

धनबाद से 31 शिकायतें निर्वाचन आयोग को प्राप्त हुई. जिसमें से 14 शिकायत सही पाई गई और चुनाव आयोग उस पर कार्रवाई करेगा. उन्होंने बताया कि धनबाद में 1092 वैसे पीडब्ल्यूडी (पर्सन विद डिसेबिलिटी) वोटर है जो देख नहीं सकते तथा 4923 चल नहीं सकते. आर्मी सर्विस वोटर की संख्या 3434 है तथा 30 जनवरी 2019 के बाद 33, 059 नए मतदाता जुड़े हैं.

उन्होंने राजनीतिक पार्टियों के लिए झारी सुविधा एप के बारे में भी जानकारी दी. बताया कि इसके तहत राजनीतिक पार्टियों को अनुमति लेने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू की गई है तथा 24 से 48 घंटे के अंदर उन्हें कार्यक्रम, हेलीपैड इत्यादि की अनुमति प्रदान की जाएगी.

कार्यशाला में मंथन युवा संस्थान रांची के प्रतिनिधि चंदन कुमार ने बताया कि इस बार लोकसभा चुनाव में उतरने वाले प्रत्याशी को शपथ पत्र के साथ अपना पैन कार्ड भी देना होगा. शपथपत्र में अपना फोटो भी लगाना होगा. साथ ही आयकर, जीएसटी या सरकारी मद में अन्य बकाया रकम इत्यादि का विवरण भी देना होगा. उम्मीदवार को अपनी आय का श्रोत बताना होगा.

कार्यशाला में जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त, उप विकास आयुक्त शशि रंजन, अपर जिला दंडाधिकारी विधि व्यवस्था राकेश दुबे, अनुमंडल पदाधिकारी राज महेश्वरम, उप निर्वाचन पदाधिकारी मृत्युंजय पांडे, जिला पंचायती राज पदाधिकारी चंद्रजीत सिंह, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी ईशा खंडेलवाल, सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी नेहा पाठक सहित उत्तरी छोटानागपुर के हजारीबाग, रामगढ़, गिरिडीह, कोडरमा, बोकारो और धनबाद जिले के प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के के प्रतिनिधि उपस्थित थे.

Web Title : WORKSHOP HELD FOR PRINT AND ELECTRONIC MEDIA

Post Tags: