कोल स्कैम मामला : पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को तीन साल की सजा के बाद बेल

नई दिल्‍ली : दिल्ली पटियाला हाउस कोर्ट ने कोल ब्लॉक आवंटन से जुड़े एक मामले में पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को तीन साल की सजा सुनाई है. इसी मामले में दो अन्य लोगों को कोर्ट ने चार साल की सजा सुनाई गई है. इसके तुरंत बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने एचसी गुप्ता एवं दो अन्य सरकारी कर्मचारियों को जमानत दे दी.

बता दें कि दिल्‍ली के कोर्ट ने कोयला आवंटन घोटाले में पूर्व सचिव समेत पांच लोगों को दोषी करार दिया था. इन सभी पर अवैध तरीके से कोल ब्‍लॉक आवंटन करने का आरोप है. यह मामला पश्चिम बंगाल में कोयला ब्लॉक के आवंटन से संबंधित है.

सीबीआइ ने दोषियों के खिलाफ पांच साल सजा की मांग की थी. इसके साथ ही इन प्राइवेट कंपनियों पर अर्थदंड लगाने का अनुरोध किया. गुप्‍ता और चारों के वकील ने कम से कम सजा देने की मांग कोर्ट से की है. इधर वकील ने कोर्ट से कहा था कि उनकी फैमिली को पेंशन के अलावा और कोई दूसरा कमाई का जरिया नहीं है. कोर्ट का यह फैसला कोयला आवंटन घोटाले के एक मामले में अहम सुनवाई करते के दौरान आया था.  

विशेष सीबीआइ जज भरत पाराशर ने एचसी गुप्ता के अलावा निजी कंपनी विकास मेटल्स एंड पावर लिमिटेड, एक सेवारत और एक रिटायर्ड नौकरशाह, कोयला मंत्रालय में पूर्व संयुक्त सचिव के एस क्रोफा और कोयला मंत्रालय में तत्कालीन निदेशक (सीए-1) केसी सामरिया को मामले में दोषी ठहराया है.

Web Title : COAL BLOCK ALLOCATION SCAM CASE DECISION TODAY ON FORMER SECRETARY HC GUPTA