पढ़ाई और खेल में रहना है हमेशा अव्‍वल, तो स्टूडेंट्स खुद की हेल्थ का ऐसे रखें ख्‍याल, नहीं पड़ेंगे बीमार


हेल्थ : स्टूडेंट लाइफ में सबसे ज्यादा समस्या बच्चों के खानपान और उनकी फिजिकल एक्टविटी को लेकर ही होती है. बच्चे न तो न्यूट्रीशियस चीजों को खाते हैं न ही फिजिकली ही एक्टिव रहते हैं. ऐसे में उनका परफॉर्मेंस 100 प्रतिशत देखने को नहीं मिलता. इतना ही नहीं वे जल्दी थकान महसूस करते हैं और इससे इनका मेंटल लेवल और आईक्यू भी डिस्टर्ब होता है.

वे आसानी से तनाव में आ जाते हैं और छोटी प्रॉब्लम भी उन्हें बड़ी लगी है और वे इससे हार मान बैठते हैं. इसका असर उनकी पढ़ाई और करियर पर पड़ता है, जबकि पढ़ाई या एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज के लिए जरूरी है कि वे खुद को पूरी तरह फिट और हेल्दी रखें. इसके लिए कुछ चीजों को फॉलों करना होगा और ये बेहद आसान टिप्स हैं जो एक स्टूडेंट्स के लिए जरूरी भी हैं, ताकि वे खुद को फिट और हेल्दी रख सकें.

ब्रेकफास्ट जरूर करें : नाश्ता राजा की तरह, लंच समान्य इंसान की तरह और डिनर गरीब की तरह से करने वाले फार्मुले पर हर स्टूडेंट्स को चलना चाहिए. पौष्टिक ब्रेकफास्ट पूरे दिन आपको एनर्जेटिक बनाए रखता है. खाली पेट रहने से थकान और उबन जल्दी महससू होती है. इसलिए जरूरी है कि खुदको एक्टिव बनाए रखने के लिए प्रोटीयुक्त नाश्ता करें. जैसे ऐग, ओट्स, योगर्ट आदि.

यदि आप पेट भर नाश्ता नहीं करेंगे तो आपको जब भूख लगेगी तो अनाप-शनाप कुछ भी बच्चे खाने लगते हैं. खास कर जंक फूड. जंक फ़ूड में मिले फ़ूड प्रिज़र्वेटिव्स, सस्ते खाद्य पदार्थ सेहत ही नहीं दिमाग को भी कुंद कर देते हैं. जंक फूड्स में पौष्टिक तत्व बिलकुल नहीं होते इसलिए इसे खाने से केवल भूख खत्म होती है और मोटापा चढ़ता है. इसलिए इन फूड़स से दूरी बनाएं.

स्टूडेंट्स पानी पीने में बहुत कोताही बरतते हैं, जबकि यदि शरीर में पानी की कमी हो तो थकान और नींद आने जैसी समस्या बढ़ जाती है. इसलिए शरीर में फ्लुइड्स की मात्रा कम न हो इसका ध्यान देना चाहिए. इसके लिए रोज कम से कम दो लीटर पानी पीने की आदत डालें. साथ ही जूस, बटरमिल्क, मिल्क, लस्सी के साथ पानी वाले फल खूब खाएं. पानी से पाचन भी बेहतर होता है. पेट सही रहेगा तो दिमाग भी चंगा काम करेगा.

नींद एक दवा भी है और अगर ये सही न हो तो कई बीमारियों की वजह भी. इसलिए सोने से समझौता कभी न करें. कोशिश करें कि आपकी 8 घंटे की नींद पूरी जरूर हो. दिमाग को भी रेस्ट की जरूरत होती है और आंखों को भी, क्योंकि एक स्टूडेंट्स के लिए ये दोनों ही चीजें फिट होनी जरूरी है. मोबाइल और सोशल मीडिया सफिर्ंग के चक्कर में देर रात तक जागने की आदत न डालें. क्योंकि नींद अगर पूरी नहीं होगी तो निराशा, भूख न लगना, थकावट, सुस्ती महसूस होना और चिढ़चिढ़ापन जैसी समस्याएं बढ़ने लगेंगी.

अच्छी हेल्थ के लिए 60 प्रतिशत डाइट और 40 प्रतिशत एक्सरसाइज जरूरी है. रोजाना सुबह या शाम कम से कम 45 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें. चाहें तो टहलें या साइकिलिंग करें. कोई गेम खेलें या स्वीमिंग करना भी आपको तरोताजा बनाए रखेगा. एक्सरसाइज करने से केवल फिटनेस ही नहीं मिलती बल्कि इससे दिमाग भी एक्टिव होता है. नए आइडियाज भी आते हैं और पढ़ा हुआ याद भी रहता है. क्योंकि दिमाग को ऑक्सीजन भरपूर मिलता है एक्सरसाइज से और कई हेप्पी हार्मोन्स भी एक्टिवेट हो जाते हैं, इसलिए पढ़ने में भी मन लगता है. तनाव आदि दूर होता है.

इन छोटी, लेकिन जरूरी टिप्स को फॉलो कर किसी भी कांप्टिशन या एग्जाम को क्रैक ही नहीं कर सकते बल्कि हर प्रॉब्लम्स से भी स्टूडेंट्स लड़ सकते हैं.

Web Title : STUDYING AND STAYING IN SPORTS IS ALWAYS A MUST, SO STUDENTS WILL NOT BE SICK, THEY SHOULD KEEP THEIR OWN HEALTH.

Post Tags: