पनभरों ने अपनी मांगों को लेकर क्षेत्रीय कार्यालय में जड़ा ताला, कहा ठेकेदारी व्यवस्था बर्दाश्त नहीं

मुगमा(बंटी झा) :- ईसीएल मुगमा क्षेत्र के पनभरा ने मानदेय भुगतान करने एवं  टेंडर निकाले जाने का विरोध करते हुए सोमवार को कांग्रेस के बैनर तले ईसीएल मुगमा क्षेत्रीय कार्यालय के मुख्य द्वार में ताला जड़ते हुए विरोध प्रदर्शन किया. बाद में निरसा थाना प्रभारी सुभाष सिंह के द्वारा पनभरों को समझाने बुझाने के बाद मुख्य द्वार खुलवाया गया.        

 क्या है मामला- पनभरों  ने बताया कि बीते एक वर्ष से मानदेय का भुगतान ईसीएल  प्रबंधन द्वारा नहीं किया गया है. इसके बावजूद हमलोग कॉलोनियों में पानी भरने का काम करीब 40 वर्षों से करते आ रहे हैं. परंतु आज मानदेय भुगतान करने के बदले टेंडर निकाल कर ठेकेदारी व्यवस्था में हमलोगों को काम कराने का प्रयास किया जा रहा है. जो कतई बर्दाश्त नहीं है.  

उन्होंने बताया कि 15 मई को प्रबंधन द्वारा टेंडर निकाली गई थी. जिसका आज खुलने की तिथि निर्धारित की गई थी. जब हम लोगों को इसका पता चला तो हमलोग बाल बच्चे को लेकर प्रबंधन से मानदेय भुगतान करने एवं टेंडर नहीं निकालने की गुहार लगाने पहुंचे थे. परंतु प्रबंधन के नकारात्मक रवैया के कारण हमलोगों को तालाबंदी करने पर बाध्य होना पड़ा.  

ज्ञात हो कि मुगमा क्षेत्र कई ईसीएल कालोनियों में करीब 80 से 90 पनभरा पानी भरने का काम कर रहे हैं. जिन्हें प्रति भार 2. 85 रूपए का भुगतान किया जाता है. परंतु वह भी बीते एक वर्ष से मानदेय का भुगतान नहीं की जा रही है.   जिससे भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है.  

वही इस संबंध में कांग्रेसी नेता सुधांशु शेखर झा ने बताया कि इस मामले को लेकर बीते दिनों ईसीएल मुग्मा महाप्रबंधक बीसी सिंह से बात करने गए थे. परंतु उन्होंने समय की कमी बताते हुए वार्ता नहीं की. आज जब पनभरों को  पता चला कि टेंडर खोला जाएगा तो वे लोग स्वयं ही क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया.

झा ने यह भी बताया कि इस मामले को लेकर वर्ष 2016-17 से हाईकोर्ट में मामला चल रहा है. इसके बावजूद प्रबंधन द्वारा टेंडर निकाले जाना कहीं से न्यायोचित नहीं है.  

विरोध करने वालों में नरेश महतो, वीरेंद्र महतो, गुहीराम, मटर लाल महतो, गुप्तेश्वर यादव, धनजी ठाकुर, हरीनाथ यादव, भोला यादव, अर्जुन यादव सहित दर्जनों महिलाएं व पुरुष शामिल थे.                 

नहीं हो सकी वार्ता- पुलिस के द्वारा क्षेत्रीय कार्यालय का मुख्य द्वार खुलवाए जाने के बाद महाप्रबंधक विरोध प्रदर्शन कर रहे पनभरों से बिना वार्ता किए क्षेत्रीय कार्यालय से निकलकर चले गए. जिसके कारण वार्ता नहीं हो सकी.

क्षेत्रीय कार्यालय पुलिस छावनी में हुई तब्दील- ईसीएल मुगमा प्रबंधन द्वारा निरसा पुलिस को तालाबंदी की सूचना देने पर निरसा थानेदार सुभाष सिंह क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचकर लोगों को अल्टीमेटम देते हुए मुख्य द्वार खुलवाया. इस दौरान गलफरबाडी ओपी प्रभारी, सीआईएसएफ एवं ईसीएल के दर्जनों सुरक्षाकर्मी उपस्थित थे.

Web Title : THE WATER FILLED LOCK IN THE REGIONAL OFFICE OVER THEIR DEMANDS, SAYS THE CONTRACT SYSTEM IS NOT TOLERATED

Post Tags: