बंदूक की गोली से चीतल का शिकार, आरोपी फरार

बालाघाट. जिले के सामान्य वनमंडल अंतर्गत दक्षिण सामान्य और उत्तर सामान्य वनमंडल के लातरी परिक्षेत्र के अंतर्गत कक्ष क्रमांक 1874 में बंदूक की गोली से चीतल का शिकार किये जाने का मामला प्रकाश में आया है. जहां शिकारियों ने चीतल की गोली मारकर हत्या तो कर दी किन्तु उसे ले जा नहीं जा सकें. गश्त के दौरान वनकर्मियों की आहट मिलने के बाद रात के अंधेरे का फायदा उठाकर शिकारी भागने में कामयाब हो सकें. एक ओर जहां दीपावली के पावन पर्व पर लोग घरो में दीपावली पूजन कर रहे थे. वहीं दूसरी ओर कुछ क्रुर प्रवृत्ति के लोग वनक्षेत्र में निवासरत वन्यप्राणी का शिकार करने में लगे थे. जिनके द्वारा बंदूक से एक चीतल का शिकार किया गया. हालांकि जांच के दौरान वनविभाग की टीम में बंदूक से निकली गोली तो नहीं मिल सकी किन्तु मृत चीतल के पीएम रिपोर्ट में यह साफ हो गया कि चीतल की मौत बंदूक की गोली से हुई है. जिसके बाद दक्षिण सामान्य परिक्षेत्र अधिकारी धर्मेन्द्र बिसेन और उत्तर सामान्य परिक्षेत्र अधिकारी सिद्धार्थ कांबले की मौजूदगी में मृत चीतल का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

हालांकि इससे पूर्व उत्तर सामान्य वनमंडलाधिकारी एस. के. एस. तिवारी एवं उपवनमंडलाधिकारी एम. एस. श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में दक्षिण सामान्य परिक्षेत्र अधिकारी धर्मेन्द्र बिसेन और उत्तर सामान्य परिक्षेत्र अधिकारी सिद्धार्थ कांबले ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और चीतल के शिकार में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ वनअपराध दर्ज किया गया है. दक्षिण सामान्य परिक्षेत्र अधिकारी धर्मेन्द्र बिसेन ने कहा कि इस मामले मंे ग्रामीणों से पूछताछ की जा रही है और जल्द ही चीतल के शिकार के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा.  

हालांकि इस पूरे मामले में चिंतनीय पहलु यह है कि वर्तमान में चुनाव के दौरान सारे लायसेंसी शस्त्र जमा हो गये है, उस स्थिति में शिकार के लिए बंदूक का उपयोग होना और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में होना, कई शंकाआंे को जन्म दे रहा है और यदि कोई अवैध रूप से शस्त्र लेकर इस तरह की गतिविधियों को अंजाम दे रहा है तो वह शांति के खतरे जैसा है.


Web Title : CHITAL OF GUN SHOT, ACCUSED ABSCONDING